कार्डियो एक्सरराइज का सबसे अच्छा जरिया ट्रेडमिल पर रोजाना वर्कआउट करना है। ट्रेडमिल के जरिए वजन घटाना काफी आसान भी होता है। लेकिन क्या आप यह जानते हैं कि ट्रेडमिल पर वर्कआउट करते वक्त आपको किन सावधानियों को बरतना चाहिए।

ट्रेडमिल पर वर्कआउट करते समय कुछ सावधानियां बरतनी जरुरी हैं।

tred

ट्रेडमिल पर नंगे पांव वर्कआउट नहीं करना चाहिए, फ्रिक्शन और तेज मूवमेंट के चलते काफी हीट पैदा होती है जिससे आपके पैरों में जलन हो सकती है। साथ ही इससे फंगस और कीटाणु का भी खतरा होता है। इसलिए ट्रेडमिल पर फिटिंग के जूते पहनकर ही वर्कआउट करना चाहिए।

ट्रेडमिल मशीन को स्टार्ट करते ही सबसे पहले डेक पर पांव रखना चाहिए, ताकि अचानक तेज स्पीड में बेल्ट के घूमने से आपका बैलेंस ना बिगड़ें। जब भी आप मशीन ऑन करें, उससे पहले अपने दोनों पांव को डेक पर फैला लें। फिर बेल्ट की स्पीड को अपने अनुसार सेट करने के बाद ही उसपर अपने पांव रखें।

ट्रेडमिल पर वर्कआउट करते वक्त अक्सर आप एक्साइटमेंट या फिर थककर अपने पैरों को निहारने लगते हैं। ऐसा करना आपके लिए खतरनाक साबित हो सकता है। क्योंकि चलती ट्रेडमिल पर पैरों को देखने से आप अपना बैलेंस खो भी सकते हैं। जिससे आपको गंभीर चोट भी लग सकती है। इसलिए वर्कआउट करते वक्त हमेशा सामने देखे साथ ही ऐसा करने से आपको सांस लेने और छोड़ने में कोई परेशानी भी नहीं होगी।

ट्रेडमिल पर वर्कआउट करते वक्त हैंडरेल को पकड़ना खतरनाक होता है। इसलिए वर्कआउट करते वक्त हैंडरेल को ना पकड़ें। अगर आप वर्कआउट के वक्त हैंडरेल को काफी लंबे समय से पकड़ते रहे हो, जो अब आपकी आदत भी बन गयी है तो, इससे आपकी बांह में अकड़न आ सकती है साथ ही आपकी बांहों में दर्द भी शुरु होने लगेगा। इसलिए हमेशा वर्कआउट बिना किसी सहारे के करना चाहिए। अगर आप हैंडरेल का सहारा लेते हैं तो इसका मतलब है कि आपकी ट्रेडमिल की स्पीड ज्यादा है। उसे तुरंत कम कर लेना चाहिए।

ट्रेडमिल की स्पीड को एकदम तेज ना करें। इससे आपका बैलेंस गड़बड़ा सकता है। धीरे-धीरे ट्रेडमिल की स्पीड को बढ़ाना चाहिए ताकि आपकी बॉडी को वार्मअप का समय मिलें। जिससे आपकी मांसपेशियों में अकड़न भी नहीं आएगी। ट्रेडमिल की स्पीड हमेशा अपनी जरुरत के हिसाब से रखें। अपना वजन जल्दी घटाने की वजह से ट्रेडमिल की स्पीड को ज्यादा ना बढाए।

ट्रेडमिल पर रनिंग करने से पहले अपनी ‘टारगेट हार्ट रेट’ के बारे में जरुर जान लीजिए। किसी को भी अपनी ‘टारगेट हार्ट रेट’ की 50-70 फीसदी स्पीड से ज्यादा पर नहीं दौड़ना चाहिए। अगर ऐसा नहीं किया तो आपको दिल का दौरा भी पड़ सकता है। चलती ट्रेड मिल से कभी भी उतरने की कोशिश ना करें। अगर बहुत जरूरी हो तो इमरजेंसी बटन दबाएं, बेल्ट जब पूरी तरह रुक जाए तभी उस पर से उतरें। क्योंकि चलती ट्रेडमिल से उतरने पर आपको चक्कर आ सकता है या फिर आपका बैलेंस खराब हो सकता है जिस वजह से आप गिर भी सकते हैं।

म्यूजिक ना रुके: ये मानी-परखी बात है कि जब भी हम बढ़िया संगीत सुनते हैं तो दिल खुश रहता है। उस वक्त हम जो भी काम करते हैं उसका आउटपुट दोगुना होता है। इसलिए एक्सरसाइज करते वक्त म्यूजिक प्लेयर ऑन रखें। बस ये ख्याल रखें कि म्यूजिक फास्ट पेस वाला हो ना कि स्लो, क्योंकि इसका आपके दौड़ने की गति पर सीधा असर होगा। यकीन ना हो तो ट्राई करके देख लीजिए।

Categories: Health