बॉलीवुड एक्टर पंकज त्रिपाठी अपनी दमदार एक्टिंग के लिए जाने जाते हैं। फिल्मों में अपनी एक्टिंग के हुनर को दिखाकर उन्होंने ये साबित किया कि वो टॉप क्लास एक्टर हैं। फिल्म में उनका रोल चाहें छोटा ही क्यों ना हो वो अपने हर किरदार से लोगों के दिल में जगह बना ही लेते हैं। छोटे-छोटे किरदारों को निभाने के बाद अब उन्हें बड़े रोल भी ऑफर होना शुरु हो गए हैं। बीते दिनों रिलीज हुई उऩकी वेब सीरिज ‘मिर्जापुर’ सुपरहिट रही थी। इस वेब सीरिज में पंकज ने कालीन भैया का किरदार निभाया था। तो वहीं उसके बाद आई उनकी फिल्म ‘लुका-छुपी’ आई। इस फिल्म में उन्होंने बाबूलाल का किरदार किया था। जिसके देख लोग हंसने पर मजबूर हो गए।

कामयाबी हासिल करने के बाद अब खबरें आईँ हैं कि उन्होंने मुंबई के मड आईलैंड पर अपने सपनों का घर खरीद लिया है। 16 अप्रैल को पंकज ने इस घर में गृह प्रवेश कर अपनी पत्नी मृदुला के साथ घर में पूजा की। पूजा की कुछ फोटो सोशल मीडिया पर खूब वायरल हो रही हैं।

फोटो में पंकज पीले कपड़ों में नजर आ रहे हैं। वहीं उनकी पत्नी मृदुला लाल रंग की साड़ी में नजर आई हैं। साड़ी में मृदुला बेहद ही खूबसूरत नजर आई। नए घर को लेकर पंकज की खुशी फोटो में साफ दिखाई दें रही है।

मुंबई मिरर से बात करते हुए पंकज ने कहा की-‘मुझे अच्छा लगेगा की नया घर और नई कार खरीदने की बजाय, मैं लोगों को कुछ सिखा पाऊं। घर खरीदना मेरा सपना था, मुझे ज्यादा कुछ नहीं चाहिए।’ आगे उन्होंने कहा कि-‘मुझे आज भी अपने घर की टीन की छत याद है।’

पंकज ने आगे कहा कि-‘भले ही आज मैंने अपने सपनों का घर खरीद लिया है लेकिन पटना में हमारा एक कमरे का घर और उस पर टीन की छत मुझे आज भी याद आती है। एक रात बहुत तेज आंधी आई और बारिश होने लगी, जिसके बाद वो टिन की छत भी उड़ गई थी। उसके बाद मैं आकाश को देखता रह गया था।’

आपको बता दें कि इस इंटरव्यू में पंकज ने अपने स्ट्रगल के बारे में बात कि-‘साल 2004 से 2006 तक का समय मेरे लिए बहुत मुश्किल भरा था। मैंने सोचा कि मैं कभी निराश नहीं होऊंगा। मैं लोगों को एक मदारी की तरह एंटरटेन करता हूं। इसी कारण मैं अपनी सारी परेशानियों को भूल जाता हूं।’

पंकज ने कहा कि-‘शुरुआत से ही मेरा सांस्कृतिक चीजों में ध्यान ज्यादा था। 21 साल की उम्र में ही मैं बिस्मिल्लाह खान के कॉन्सर्ट में जाता था। मुझे संगीत की कुछ खास समझ नहीं थी, लेकिन मैं बड़े ध्यान से उन्हें सुनता था। मुझे फिल्मों में कुछ खास इंटरेस्ट नहीं था लेकिन थिएटर मुझे खूब पसंद था। मैंने दिल्ली के NSD से कोर्स किया और थिएटर में अपना करियर बनाने को लिए बिहार आ गया। जिसगके बाद मुझे ये एहसास हुआ कि थिएटर में कोई भविषय नहीं है। फिर मैंने मुंबई आने का फैसला लिया।’

Categories: Entertainment